हिंदी English | FAQ
Announcements, Circulars & Notificationsघोषणाएं, परिपत्र और अधिसूचनाएं

Academicशैक्षणिक Skill Educationकौशल शिक्षा Assessmentशैक्षणिक-मूल्यांकन

CBSE Science Challenge 2024-25 केमाशिबो विज्ञान चुनौती 2024-25

Webinars for sensitizing schools about the CBSE Handbook – Disaster Risk Reduction in Schools (Classes 6 to 10) Webinars for sensitizing schools about the CBSE Handbook – Disaster Risk Reduction in Schools (Classes 6 to 10)

CBSE Budding Authors Program 2024-25- reg. केमाशिबो नवोदित लेखक कार्यक्रम 2024-25 के संबंध में | Click Here To Apply

Assessment and Evaluation Practices of the Board for the Session 2024-25सत्र 2024-25 के लिए बोर्ड का आकलन और मूल्यांकन पद्धतियां34 केमाशिबो विज्ञान चुनौती 2024-25

Secondary and Senior School Curriculum for the session 2024-25 and new textbooks to be published by NCERT for classes III and VIसत्र 2024-25 के लिए माध्यमिक और उच्च विद्यालय पाठ्यक्रम और कक्षा III और VI के लिए एनसीईआरटी द्वारा प्रकाशित की जाने वाली नई पाठ्यपुस्तकें

Mission Life Style For Environment (LiFE)-reg.Mission Life Style For Environment (LiFE)-reg.

PRERANA: The School of Experiential Learning– reg.प्रेरणा: अनुभवात्मक शिक्षा का विद्यालय के सम्बन्ध में 

Adolescent Peer Educator Leadership in life Skills, Health and Wellbeing Program- Registration for Fifth Phase of Training Program-reg.Adolescent Peer Educator Leadership in life Skills, Health and Wellbeing Program- Registration for Fifth Phase of Training Program-reg.




Quick Navigationत्वरित नेवीगेशन

Quick Linksत्वरित लिंक

CBSE VISIONके.मा.शि.बो. संदृश्य

The CBSE envisions a robust, vibrant and holistic school education that will engender excellence in every sphere of human endeavour. The Board is committed to provide quality education to promote intellectual, social and cultural vivacity among its learners. It works towards evolving a learning process and environment, which empowers the future citizens to become global leaders in the emerging knowledge society. The Board advocates Continuous and Comprehensive Evaluation with an emphasis on holistic development of learners. The Board commits itself to providing a stress-free learning environment that will develop competent, confident and enterprising citizens who will promote harmony and peace.केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड विद्यालयों में ऐसी सुदृढ़, जीवंत व सम्पूर्ण शिक्षा की कल्पना करता है जो मानवीय प्रयास के प्रत्येक क्षेत्र में उत्कृष्टता उत्पन्न करवाए। बोर्ड छात्र /छात्राओं को ऐसी शिक्षा उपलब्ध करवाने हेतु प्रतिबद्ध है जो उनमें बौद्धिक, सामाजिक व सांस्कृतिक सजीवता का प्रसार कर सके। बोर्ड ऐसी अधिगम प्रक्रिया व वातावरण उत्पन्न करवाने की दिशा में प्रयासरत है जो भावी नागरिकों को उभरते हुए ज्ञानाधारित समाज में सार्वभौमिक नेता बनने में सक्षम कर सके। छात्र /छात्राओं के सम्पूर्ण विकास हेतु बोर्ड सतत् एवं व्यापक मूल्यांकन का समर्थन करता है। बोर्ड ऐसा तनाव रहित अधिगम वातावरण उपलब्ध करवाने हेतु प्रतिबद्घ है जिससे छात्र/ छात्राएं कार्यसक्षम, आत्मविश्वासी व उद्यमशील नागरिक बनें जो शांति व सद्भाव का प्रसार करें।


About Academics Unitशैक्षणिक इकाई के बारे में

The goal of the Academic, Training, Innovation and Research unit of Central Board of Secondary Education is to achieve academic excellence by conceptualising policies and their operational planning to ensure balanced academic activities in the schools affiliated to the Board. The Unit strives to provide Scheme of Studies, curriculum, academic guidelines, textual material, support material, enrichment activities and capacity building programmes. The unit functions according to the broader objectives set in the National Curriculum Framework-2005 and in consonance with various policies and acts passed by the Government of India from time to time. केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की शैक्षणिक, प्रशिक्षण, नवाचार और अनुसंधान इकाई का लक्ष्य बोर्ड से संबद्ध विद्यालयों में संतुलित शैक्षणिक गतिविधियों को सुनिश्चित करने के लिए नीतियों की अवधारणा और उनकी प्रचालन योजना के द्वारा शैक्षणिक उत्कृष्टता प्राप्त करना है। यह इकाई अध्ययन की योजना, पाठ्यक्रम, शैक्षणिक दिशा-निर्देश, पाठ्य-सामग्री, सहायक सामग्री, संवर्धन गतिविधियों और क्षमता निर्माण कार्यक्रम प्रदान करने का प्रयत्न करती है। यह इकाई राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा-2005 में निर्धारित व्यापक उद्देश्यों के अनुसार और भारत सरकार द्वारा समय-समय पर पारित विभिन्न नीतियों और अधिनियमों के अनुरूप कार्य करती है।

Some major objectives of the Unit are:इकाई के कुछ प्रमुख उद्देश्य:

  1. To define appropriate approaches of academic activities to provide stress free, child centred and holistic education to all children without compromising on quality
  2. To analyse and monitor the quality of academic activities by collecting the feedback from different stakeholders
  3. To develop norms for implementation of various academic activities including quality issues; to control and coordinate the implementation of various academic and training programmes of the Board; to organize academic activities and to supervise other agencies involved in the process
  4. To adapt and innovate methods to achieve academic excellence in conformity with psychological, pedagogical and social principles.
  5. To encourage schools to document the progress of students in a teacher and student friendly way
  6. To propose plans to achieve quality benchmarks in school education consistent with the National goals
  7. To organize various capacity building and empowerment programmes to update the professional competency of teachers
  1. गुणवत्ता से समझौता किए बिना सभी बच्चों को तनाव रहित बाल केंद्रित और समग्र शिक्षा प्रदान करने के लिए शैक्षणिक गतिविधियों के उपयुक्त उपागमों को परिभाषित करना।
  2. विभिन्न हितधारकों से प्रतिपुष्टि संकलन के द्वारा शैक्षणिक गतिविधियों की गुणवत्ता का विश्लेषण और अनुवीक्षण करना।
  3. गुणवत्ता संबंधी मुद्दों सहित विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों के कार्यान्वयन के लिए मानदंड विकासित करना; बोर्ड के विभिन्न शैक्षणिक और प्रशिक्षण कार्यक्रमों के क्रियान्वयन का नियंत्रण और समन्वयन करना; शैक्षणिक गतिविधियों को आयोजित करना और इस प्रक्रिया में शामिल अन्य अभिकरणों का पर्यवेक्षण करना।
  4. मनोवैज्ञानिक, शिक्षण-शास्त्रीय और सामाजिक सिद्धांतों के अनुरूप शैक्षणिक उत्कृष्टता प्राप्त करने की विधियों में अनुकूलन एवं नवाचार लाना।
  5. शिक्षक एवं विद्यार्थी अनुकूल विद्यार्थियों के प्रगति का प्रलेखन हेतु विद्यालयों को प्रोत्साहित करना।
  6. राष्ट्रीय लक्ष्यों के अनुरूप विद्यालयी शिक्षा में गुणवत्ता के मानक प्राप्त करने की योजनाएं प्रस्तावित करना।
  7. शिक्षकों की व्यावसायिक दक्षता को अद्यतन करने के लिए विभिन्न क्षमता निर्माण और सशक्तिकरण कार्यक्रमों का आयोजन करना।

Back to Top